नराशंस और अन्तिम ऋषि

अन्तिम बुद्ध-मैत्रेय
            ‘ऋषि’ को बोद्ध धर्म की भाषा में ‘बुद्ध’ कहा जाता हैं। अन्तिम बुद्ध के विषय में भविष्यवाणी का स्वरूप प्रस्तुत हैं, जिसे गौतम बुद्ध ने अपने मृत्यु काल के समय अपने प्रिय शिष्य नन्दा से बताया था। ‘नन्दा! इस संसार में मैं न तो प्रथम बुद्ध हूं और न तो अन्तिम बुद्ध हूं। इस जगत में सत्य तथा परोपकार की शिक्षा देने के लिए अपने समय पर एक और ‘बुद्ध’ आएगा। वह पवित्र अन्त: करण वाला होगा। उसका हृदय शुद्ध होगा। ज्ञान और बृद्धि से सम्पत्र तथा समस्त लोगों का नायक होगा। जिस प्रकार मैंने जगत को अनश्वर सत्य की शिक्षा प्रदान की हैं, उसी प्रकार वह भी जगत को सत्य की शिक्षा देगा। जगत को वह ऐसा जीवन मार्ग दिखाएगा, जो शुद्ध (अमिश्रित) तथा पूर्ण भी होगा। नन्दा! उसका नाम मैत्रेय होगा।’’
   
    ‘बुद्ध’ का अर्थ ‘बुद्धि से युक्त’ होता है। बुद्ध मनुष्य ही होते हैं देवता आदि नहीं। 

                बुद्ध की विशेषताएं

  1.   बुद्ध ऐश्वर्यवान एवं धनवान होता हैं।
  2.   बुद्ध सन्तान से युक्त होता हैं।
  3. बुद्ध स्त्री तथा शासन से युक्त होता हैं।
  4.  बुद्ध अपनी पूर्ण आयु तक जीवित रहता है।


  बुद्ध पद को प्राप्त व्यक्ति का यह सिद्धान्त होता है, कि अपनी सिद्धि के लिए अपना कार्य स्वंय करना चाहिए। बुद्ध केवल धर्म प्रचारक होते हैं। बुद्ध को तथागत भी कहा जाता हैं। जिस समय बुद्ध एकान्त में रहता है, उस समय र्इश्वर उसके साथियों के रूप में देवताओं और राक्षसों को भेजता है।’ प्रत्येक बुद्ध अपने पूर्ववर्ती बुद्ध का स्मरण कराता हैं और अपने अनुयायियों को ‘मार’ से बचने की चेतावनी देता हैं। ‘मार’ का अर्थ बुरार्इ एवं विनाश को फैलाने वाला होता है। जिसे उर्दू भाषा में ‘शैतान’ तथा अंग्रेजी में डेविल कहा जा सकता हैं। बुद्ध के अनुयायी पक्के अनुयायी होते हैं, जिन्हे कोर्इ भी उनके मार्ग से विचलित नही कर सकता। संसार मे एक समय मे केवल एक ही बुद्ध रहता हैं।

  1.     बुद्ध के लिए सबसे आवश्यक इस बात का होना हैं, कि संसार का कोर्इ भी व्यक्ति भी उसका गुरू न हो।
  2.     प्रत्येक बुद्ध के लिए बोधिवृक्ष का होना आवश्यक हैं। हर एक बुद्ध के लिए बोधिवृक्ष के रूप में अलग-अलग वृक्ष निश्चित रह हैं।


बुद्ध मैत्रेय की विशेषताएं

मैत्रेय का अर्थ होता हैं-दया से युक्त।

बुद्ध होने के कारण अन्तिम बुद्ध मैत्रेय में भी बुद्ध में भी बुद्ध की सभी बुद्ध होने के कारण अन्तिम बुद्ध मैत्रेय में भी बुद्ध की सभी विशेषताएं पार्इ जाएगी।

    मैत्रेय बोधिवृक्ष के नीचे सभा का आयोजन करेगा।?
बोधिवृक्ष के दो प्रकार हैं- (1) सांसारिक वृक्ष, (2)स्वर्गीय वृक्ष। बोधिवृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति होती हैं।
इस समय हम स्वर्गीय बोधिवृक्ष के विषय में कुछ विवरण प्रस्तुत कर रहे है।

1-    स्वर्गीय बोधिवृक्ष बहुत ही विस्तृत क्षेत्र में हैं।
2-    ज्ञान प्राप्ति के बाद बुद्ध स्थिर दृष्टि से उस बोधिवृक्ष को देखता है।

सामान्य मनुष्यों की अपेक्षा बुद्धों के गर्दन की हड्डी अत्यधिक दृढ़ होती थी, जिससे वे गर्दन मोड़ते समय अपने पूरी शरीर को हाथी की तरह घुमा लेते थे। मैत्रेय में भी उक्त गुण का होना स्वाभाविक हैं।

        अब हम यह सिद्ध करेंगे कि कौन ऐसा व्यक्ति हैं, जिस पर बुद्धों की सभी विशेषताएं पूरी उतरती हैं और जो मैत्रेय की कसौटी पर खरा उतरता हैं।
   
कुरान में मोहम्मद साहब के ऐश्वर्यवान और धनवान होने के विषय में यह र्इश्वरीय वाणी हैं कि तुम पहले निर्धन थे, हमने तुमको धनी बना दिया। मोहम्मद साहब ऋषि पद को प्राप्त करने के बहुत पहले धनी हो गए थे। मोहम्मद साहब के पास अनेक घोड़े थे। उनकी सवारी के रूप में प्रसिद्ध उंट ‘अलकसवा’ था, जिस पर सवार होकर मक्का से मदीना गए थे और बीस की संख्या में ऊंटनियां थी, दूध ही मोहम्मद साहब व उनके बाल-बच्चों का प्रमुख आहार था। मोहम्मद साहब के पास 7बकरियां थीं, जो दूध का साधन थी। मोहम्मद साहब दूध की प्राप्ति के लिए भैसे नही रखते थे, इसका कारण यह हैं कि अरब में भैंसे नही होती। उनके सात बागे खजूर की थी जो बाद में धार्मिक कार्यो के लिए मोहम्मद साहब द्वारा दे दी गर्इ थी। मोहम्मद साहब के पास तीन भूमिगत सम्पत्तियां थी, जो कर्इ बीघे के क्षेत्र के थीं। मोहम्मद साहब के अधिकार में कर्इ कुंए भी  थे। इतना स्मरणीय हैं, कि अरब में कुआं का होना बहुत बड़ी सम्पत्ति।

समझी जाती है, क्योकि वहां रेगिस्तानी भू-भाग हैं। मोहम्मद साहब के बारह पत्नियां, चार लड़कियां, और 3 लड़के थें। बुद्ध के अन्तर्गत पत्नी और सन्तान का होना द्वितीय गुण हैं। मोहम्मद साहब के पूर्ववर्ती भारतीय बुद्धों में यह गुण नाममात्र को पाया जाता था, परन्तु मोहम्मद साहब के पास उसका बारह गुना गुण विद्यमान था। उनकी पत्नियां के नाम हम नराशंस के वैदिक भाग में उल्लिखित कर चुके हैं।

मोहम्मद साहब ने शासन भी किया। अपने जीवन काल में ही उन्होने बड़े-बड़े राजाओं को पराजित करके उन पर अपना प्रभुत्व स्थापित किया। अरब के सम्राट होने पर भी उनका भोज्य पदार्थ पूर्ववत था।’

मोहम्मद साहब अपनी पूर्ण आयु तक जीवित रहे। अल्पायु में उनका देहावसान नही हुआ और न तो वे किसी के द्वारा मारे गए।

मोहम्मद साहब अपना काम स्वयं कर लेते थें। उन्होने अपने जीवन भर धर्म का प्रचार किया। उनके धर्म-प्रचारक स्वरूप की पुष्टि अनेक इतिहासकारो ने भी की हैं। यद्यपि उनके विषय में यह बात तो अत्यधिक प्रसिद्ध हैं ही।

जिस समय मोहम्मद साहब एकान्त में रहते थे, उस समय कभी-कभी देवता और राक्षस भी उनके पास आ जाया करते थे।

मोहम्मद साहब ने भी अपने पूर्ववर्ती ऋषियों का समर्थन किया, इस बात के लिए आप पूरा कुरआन देख सकते हैं। उदाहरण रूप में कुरआन में दूसरी सूर: में उल्लेख हैं कि ऐ आस्तिकों! (मुसलमानों) तुम कहो कि हम र्इश्वर पर पूर्ण आस्था रखते हैं और जो पुस्तक हम पर अवतीर्ण हुर्इ, उस पर और जो-जो कुछ इब्राहीम, इस्माइल, इस्हाक और याकूब पर उनकी सन्तान (के ऋषियों) पर और जो कुछ मूसा और र्इसा को दी गर्इ, उन पर भी और जो कुछ अनेक ऋषियों को, उनके  पालक (र्इश्वर) की ओर से उपलब्ध हुर्इ उन पर भी हम आस्था रखते हैं और उन ऋषियों मे किसी प्रकार का अन्तर नही मानते और हम उसी एक र्इश्वर के मानने वाले हैं।’

मोहम्मद साहब ने अपने अनुयायियों को शैतान से बचने की चेतावनी बार-बार दी थी। कुरआन में शैतान से बचने के लिए यह कहा गया हैं, कि जो शैतान को अपना मित्र बनाएगा, उसे वह भटका देगा और नारकीय कष्टों का मार्ग प्रदर्शित करेंगा।

मोहम्मद साहब के अनुयायी कभी भी मोहम्मद साहब के बताए हुए मार्ग से विचलित न होते हुए उनकी पक्की शिष्यता अथवा मैत्री में आबद्ध रहते है। मोहम्मद साहब का संग उनके अनुयायियों ने आमरण नही छोड़ा, भले ही उन्हे कष्टों का सामना करना पड़ा हों।

संसार में जिस समय मोहम्मद साहब बुद्ध थें, उस समय किसी भी देश में कोर्इ अन्य बुद्ध नही था। मोहम्मद साहब के बुद्ध होने के समय सम्पूर्ण संसार की सामाजिक और धार्मिक स्थिति, बहुत ही खराब थी, इस बात की पुष्टि ‘कल्कि अवतार और मोहम्मद साहब’ शोध पुस्तक में देख सकते हैं।

मोहम्मद का कोर्इ भी गुरू संसार का व्यक्ति नही था। मोहम्मद साहब पढ़े-लिखे भी नही थी, इसीलिए उन्हे ‘उम्मी’ भी कहा जाता हैं। र्इश्वर द्वारा मोहम्मद साहब के अन्त:करण में उतारी गर्इ आयतों की संहिता कुरआन हैं। प्रत्येक बुद्ध के लिए बोधिवृक्ष का होना आवश्यक हैं। किसी बुद्ध के लिए बोधिकृत के रूप में अश्वत्थ (पीपल), किसी के लिए न्यग्रोध (बरगद) तथा किसी बुद्ध के लिए उदुम्बर (गूलर) प्रयुक्त हुआ हैं। बुद्ध मैत्रेय के लिए जिस बोधिवृक्ष का होना बताया गया हैं, वह हैं-कड़ी और भारयुक्त काष्ठ वाला वृक्ष।’

मोहम्मद साहब के लिए बोधिवृक्ष के रूप में हुदैबिया स्थान में एक कड़ी और भारयुक्त काष्ठवाला वृक्ष था, जिसके नीचे मोहम्मद साहब ने सभा भी की थी।

‘मैत्रेय का अर्थ होता हैं-दया से युक्त । 16 अक्टूबर सन 1930 लीडर पृ0 7 कालम 3 में एक बौद्ध  ने ‘मैत्रेय’ का अर्थ ‘दया’ किया हैं। मोहम्मद साहब दया से युक्त थे। इसी कारण से मुहम्मद साहब को ‘रहमतुल्लिल्लोमीन’ कहा जाता हैं। जिसका अर्थ हैं-समस्त संसार के लिए दया से युक्त। बुद्धों के अन्तर्गत पार्इ जाने वाली सभी विशेषताएं मोहम्मद साहब मे भी विद्यमान थी।

मोहम्मद साहब ने भी स्वयं मे एक वृक्ष को देखा था, जो र्इश्वर के सिंहासन के दाहिनी और विद्यमान था, जो इतने बड़े क्षेत्र में था, जिसे एक घुड़सवार लगभग सौ वषोर्ं में भी उसकी छाया को पार नही कर सकता था।
मोहम्मद साहब ने भी स्वर्ग मे वृक्ष को आंख बिना गिराए हुए देखे थे। मैत्रेय के विषय में जो यह कहा गया हैं कि किसी भी तरफ मुड़ते समय वह अपने शरीर को पूरा घुमा लेगा। यही मुहम्मद साहब के भी विषय मे थी, कि वह बातचीत करने में किसी मित्र की ओर देखते समय अपने शरीर को पूरा घुमा लेते थे।
इस प्रकार यह सिद्ध होता हैं, कि बौद्ध ग्रन्थों में जिस मैत्रेय के होने की भविष्यवाणी की गर्इ हैं, वह अन्तिम ऋषि ही हैं।

Author Name: डा0 वेदप्रकाश उपाध्याय